Saturday, November 10, 2012

जीवन एक पहलू


अभी इस संस्था में काम करते हुये करीब दो वर्ष होने को है और इन वर्षो में काम करते हुये एक रेस्पोंसिबिलिटी ऐसी भी है जहाँ कुछ ऐसे लोगों के जीवन का हिस्सा बनना परता है जो कि शायद बहुत ही दुःख और दर्द का समय होता है और वह है "डेथ क्लेम" । और यह वह पल होता है जब जीवन के सबसे करीबी अपनो से हमेसा के लिये जुदा हो जाते है और केवल अपनी याद उनके साथ छोर जाते है ।

लोग आते है हम उनके दुःख का हिस्सा ना होते हुये नियम के अनुसार उन्हें कंपनी से मिलने वाले डेथ क्लेम के बारे में सभी कुछ बताते है और भरसक इतना प्रयास  करते है की उन्हें अपने उस इन्सान के जाने के बाद का धन जो की उनके फ्यूचर के लिये छोड़ा  गया था जल्दी मिल जाये ।सारे डाक्यूमेंट्स हमारे संस्था में जमा होने के बाद से उन्हें क्लेम की रासी मिलने तक हम उनके साथ भी उनके दुःख के साथ जुरे रहते है ।

ना जाने कितने क्लेम प्रोसेस करने के बाद भिलाई के एक इन्सान जो की अपने जवान बेटे की मौत के बाद मेरे संपर्क में आये और करीब दो से तीन महीने तक मुझसे जुड़े रहे । उस पिता की उम्र करीब 55 वर्ष होंगी और उस बेटे की उम्र जिसकी मौत हुई थी 15-16 वर्ष । शायद वह करीब हमारे ऑफिस में 10 बार आ चुके होंगे । आँख में चस्मा और हाथ कांपते हुये उसकी हिम्मत को, मैं गौर कर रहा था उनके चहरे पर एक भी सिकन नहीं था  हालाँकि उसके बेटे की मौत एक दुर्घटना थी तो उन्हें पुलिश  थाने भी जाने की जरुरत परी जिसमे उसकी हिम्मत भी जबाब दे चुकी थी। उनकी सहायत के लिये मुझे भी अंतिम बार अपने रिपोर्ट भेजने के लिये भिलाई के उसी पुलिश थाने में जाना पड़ा जहा उनके बेटे का पोस्टमार्टम हुआ था ।

उसने मुझे बताया की थाने वाले उसे सही से मदद नहीं कर रहे है । मैं वहा गया और जितनी जानकारी मुझे लेनी थी पुलिश थाने वाले ने सही से जानकारी दी । और मुझे वहां जा कर पता चला कि  किस तरह आम लोग और गरीब लोग इन सरकारी नौकरपेशो से परेशांन रहते है । मेरा काम हो चूका था और मेरे रिपोर्ट भेजने के बाद कुछ दिनों के बाद डेथ क्लेम का चेक आ गया और मैंने उस पिता को ऑफिस बुला कर वह चेक जैसे ही उसके हाथ में दिया पहली बार उस पिता को मैंने अपने सामने रोते हुए देखा । उसके आँख में आंसू देख कर उसके दुःख को तो मै महसूस कर रहा था पर मेरी कोई भी शब्द उसके दुःख को कम नहीं कर सकते थे । पर मेरे जुबान से एक ही शब्द निकले जो की हमेशा निकलते है "इन्सान के जीवन में यही एक पल होता है जिसमे उसका या उसके अपनों का कोई वश नहीं होता है और यह जीवन की सबसे करवी और सच्ची सच्चाई है ।"

उस पिता ने रोते हुए अपने बेटे की याद में उन पैसो से एक मंदिर बनाने की बात कही और मुझे धन्यवाद कह कर चला गया ।

शायद ही मैं दुबारा उस इन्सान से मिल पाऊंगा । लेकिन जीवन की सबसे बरी सच्चाई से उसने मुझे एक बार फिर से  आमने सामने खरा कर दिया ।

राजेश !!!!!!




Monday, September 3, 2012

वो रौशनी जो आज परछाई है ......

कल मैंने एक ऐसे इन्सान से पहली बार इतने देर बात की जिन्हें मै दस सालो से जनता हूँ और एक ही बार मिला हूँ आपने उस इन्सान के साथ जो मेरी अपनी परछाई है पता नहीं कभी लगता है उसके बारे में लिखू या ना लिखू पर ना जाने कितने सवाल उस इन्सान के लिएये और उस जीवन के लिये रन्हे है जो जीवन के इतने नजदीक रहने पर भी उस जीवन के उलट फेर से हार गए हैमै कोसिस कर के भी उन्हें कोई तस्सली नहीं दे पाया क्युकी मै उनके सामने जीवन के मायने को कुछ भी नहीं जनता हूँवही जिंदगी में बार बार आने वाले सब्द से वे चुक गए और आपने आप को जीवन में कशुर वार समझने लगे


मुझे लगा नहीं था उस जीवन में कोई इतने अन्दर जाने के बाद उस बाहरी जीवन से भी धोखा खा जायेंगे ..पर इस जीवन ने उन्हें आपने तरफ भी खीचा ..और कल उन्होंने उस इन्सान के बारे में जिक्र किया जिसके बारे मैंने सोचा भी नहीं था की मै तो भूल भी चूका था ..पर वही इन्सान ने मुझे इस इन्सान से मिलाया था और चली गई थी...और मुझे यह आसा भी नहीं थी की उस इन्सान ने भी कंही कंही उन्हें चोट पहुचाया था ..और उसी रिजल्ट के चलते कंही कंही इस बार वे धोका खा गए ... सायद यह जिंदगी में उन अनजानी बिस्वास और धोखा की जंग थी जिसमे दो इन्सान हार गए ...अभी तक वो सरे सब्द मेरे कानो में गूंज रन्हे है जिनका जबाब मै खोज नहीं पा रंहा हूँ ...पता नहीं मै केसे उसे आपने सब्दो में उतारू कंही मै गलत साबित ना हो जाऊ ... इन्सान जब एक दुसरे से जुरते है तो कब तक एक वे आपने इस रिश्ते को किसी चाहत के बिना गुजर सकते है ...सायद वे भी अयसा नहीं कर पाए और उन्हें इस की कीमत ना जाने कितने सवालो से जीवन भर बिताना परेगा ....